एसआरएचयू जौलीग्रांट के स्टडेंट्स को मिलेगा सीआईआई-यंग इंडियंस का साथ

डोईवाला (देहरादून) :  स्वामी राम हिमालयन विश्वविद्यालय (एसआरएचयू) जौलीग्रांट के छात्र-छात्राओं को इंडस्ट्री ट्रेनिंग व ग्रोथ के लिए कन्फेडरशन ऑफ़ इंडियन इंडस्ट्रीज-यंग इंडियंस (सीआआईआई- वाईआई) के एक्सपर्ट का साथ मिलेगा। देहरादून में आयोजित कार्यक्रम में दोनों संस्थाओ ने इस संबंध में एमओयू किया। स्वामी राम हिमालयन विश्वविद्यालय (एसआरएचयू) के अध्यक्ष डॉ.विजय धस्माना के दिशा-निर्देशन और मौजूदगी में कुलसचिव डॉ.मुकेश बिजल्वाण

Web Editor Web Editor

बदरीनाथ और केदारनाथ में रूक-रूक कर हो रही बारिश

रुद्रप्रयाग:  श्री बदरीनाथ तथा केदारनाथ धाम में कपाट खुलने के तीसरे हप्ते मौसम सामान्य रहने के बाद अब मौसम ने करवट बदल ली है। आज बृहस्पतिवार प्रात: से श्री बदरीनाथ धाम में मौसम बदल गया कुछ देर धूप आयी उसके बाद बादल छा गये। दिन साढ़े दस बजे से हल्की बारिश शुरू हो गयी।फिर दोपहर में बारिश थम गयी। आज

Web Editor Web Editor

हाईटेंशन लाइन से जंगल में लगी आग, धधक रहा वरुणावत पहाड

उत्तरकाशी:  जिला मुख्यालय सहित आसपास के क्षेत्र के जंगल पूरी रात धूं धूं कर जलते रहे। वरुणावत क्षेत्र का पूरा जंगल जल जाने के बाद आग पर नियंत्रण हो पाया। वन विभाग के अनुसार वरुणावत क्षेत्र में आग बुधवार की दोपहर करीब साढ़े तीन बजे शुरू हुई थी। लेकिन, वन विभाग इस आग पर समय रहते नियंत्रण नहीं कर पाया।

Web Editor Web Editor
Weather
33 °C
Dehradun
clear sky
33° _ 33°
14%
3 km/h
Thu
33 °C
Fri
44 °C
Sat
43 °C
Sun
41 °C
Mon
42 °C

Follow US

Discover Categories

Sponsored Content

इस वर्ष 51 हजार से अधिक वीआइपी कर चुके हैं बदरी केदार के दर्शन

रुद्रप्रयाग: इस वर्ष बदरीनाथ व केदारनाथ धाम में अब तक 51,696 वीआइपी दर्शन कर चुके हैं। इससे श्री बदरीनाथ केदारनाथ मंदिर समिति (बीकेटीसी) को रुपये 1,55,08,800 की आय प्राप्त हुई है। बीकेटीसी अध्यक्ष अजेंद्र अजय के अनुसार इस वर्ष 25 अप्रैल को केदारनाथ धाम के कपाट खुलने के पश्चात अब तक 15,612 विशिष्ट व अतिविशिष्ट और उनके संदर्भों से आए महानुभावों ने दर्शनों का लाभ उठाया है। इससे बीकेटीसी को रूपये 46,83,600 का लाभ हुआ। इसी प्रकार 27 अप्रैल को बदरीनाथ धाम के कपाट खुलने के पश्चात वहां अभी तक 36,084 हजार विशिष्ट व अतिविशिष्ट महानुभाव दर्शनों के लिए पहुंचे। इनसे बीकेटीसी को रूपये 1,08,25,200 प्राप्त हुए। उल्लेखनीय है कि यात्राकाल में दोनों धामों में प्रोटोकॉल के तहत वीआईपी व वीवीआईपी श्रद्धालुओं की भीड़ लगी रहती है। बीकेटीसी वीआईपी श्रद्धालुओं को प्राथमिकता के आधार पर दर्शन कराती थी और प्रसाद भी देती थी। इन श्रद्धालुओं से किसी प्रकार का शुल्क नहीं लिया जाता था। वीआईपी व वीवीआईपी श्रद्धालुओं के नाम पर अनेक अव्यवस्थाएं भी पैदा होती थीं। इस वर्ष यात्राकाल से पूर्व बीकेटीसी अध्यक्ष अजेंद्र ने देश के चार बड़े मंदिरों श्री वैष्णोदेवी, श्री तिरूपति बाला जी, श्री सोमनाथ व श्री महाकाल मंदिर में विभिन्न व्यवस्थाओं के अध्ययन के लिए अलग-अलग दल भेजे थे। इन दलों ने वहां की व्यवस्थाओं का अध्ययन कर मंदिरों में आने वाले विशिष्ट व अति विशिष्ट महानुभावों से दर्शनों के लिए शुल्क निर्धारित करने का प्रस्ताव रखा था। बीकेटीसी ने अध्ययन दलों के सुझाव पर प्रति व्यक्ति 300 रुपये निर्धारित किया था। बीकेटीसी द्वारा नयी व्यवस्था कायम किए जाने के बाद वीआईपी व वीवीआईपी के नाम पर अनावश्यक रूप से दर्शनों के लिए घुसने वालों पर भी रोक लगी है। बीकेटीसी ने इस नई व्यवस्था की शुरुआत इस वर्ष केदारनाथ धाम से शुरू की थी। केदारनाथ धाम के कपाट खुलने पर बीकेटीसी ने पहली पर्ची मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी की काटी थी। मुख्यमंत्री ने 300 रूपये का शुल्क चुका कर दर्शन किये थे।

Web Editor Web Editor