दाखिले से मना किया तो नपेंगे प्रधानाचार्य : मुख्‍य सचिव

देहरादून : मुख्य सचिव राधा रतूड़ी ने सख्त निर्देश दिए हैं कि राज्य में किसी भी बच्चे को किसी भी कारण से सरकारी स्कूल में दाखिले से मना करने वाले प्रधानाचार्य या शिक्षकों के खिलाफ प्रथम दृष्टया कड़ी से कड़ी कार्रवाई की जाएगी। सीएस ने सख्त निर्देश दिए हैं कि राज्य में दस्तावेजों के अभाव में कोई भी सरकारी स्कूल

Web Editor Web Editor

उपनल कर्मियों का मानदेय 10 प्रतिशत बढा, शासनादेश जारी

देहरादूनः उत्तराखंड के 25 हजार उपनल कर्मचारियों का 10 प्रतिशत मानदेय बढ़ाया गया है। वित्त विभाग से इसकी मंजूरी मिलने के बाद आज शासन ने इसके आदेश जारी कर दिए। प्रदेश के उपनल कर्मचारी पिछले काफी समय से हर साल 20 प्रतिशत मानदेय बढ़ाने सहित कई मांगों पर अमल की मांग कर रहे थे। लंबित मांगों को लेकर कर्मचारी बीते

Web Editor Web Editor

घर बैैठे ही कराएं बिजली से संंबंधित समस्‍याओं का समाधान

देहरादूनः उत्तराखंड पावर कॉरपोरेशन लिमिटेड (यूपीसीएल) ने बिजली उपभोक्ताओं की समस्या समाधान के लिए टोल फ्री नंबर पर शिकायत दर्ज करने की सुविधा शुरू की है। इससे घर बैठे ही उपभोक्ताओं की बिजली संबंधित शिकायतों का समाधान किया जा रहा है। यूपीसीएल प्रबंधन ने मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी के सरलीकरण, समाधान एवं निस्तारण के मंत्र को आधार मानकर उपभोक्ताओं की

Web Editor Web Editor
Weather
20 °C
Dehradun
overcast clouds
20° _ 20°
14%
3 km/h
Mon
22 °C
Tue
23 °C
Wed
25 °C
Thu
27 °C
Fri
26 °C

Follow US

Most Read

Discover Categories

Sponsored Content

स्‍मार्ट सिटी के कैमरों से पकड में आई छह करोड की चोरी

देहरादून : स्टेट जीएसटी की एसआईबी (स्पेशल इन्वेस्टिगेशन ब्रांच) देहरादून ने ऑटोमैटिक नंबर प्लेट रिकॉग्निशन (एएनपीआर) कैमरों की मदद से यह पता लगा लिया कि आयरन स्क्रैप का काम करने

Web Editor Web Editor

इस वर्ष 51 हजार से अधिक वीआइपी कर चुके हैं बदरी केदार के दर्शन

रुद्रप्रयाग: इस वर्ष बदरीनाथ व केदारनाथ धाम में अब तक 51,696 वीआइपी दर्शन कर चुके हैं। इससे श्री बदरीनाथ केदारनाथ मंदिर समिति (बीकेटीसी) को रुपये 1,55,08,800 की आय प्राप्त हुई है। बीकेटीसी अध्यक्ष अजेंद्र अजय के अनुसार इस वर्ष 25 अप्रैल को केदारनाथ धाम के कपाट खुलने के पश्चात अब तक 15,612 विशिष्ट व अतिविशिष्ट और उनके संदर्भों से आए महानुभावों ने दर्शनों का लाभ उठाया है। इससे बीकेटीसी को रूपये 46,83,600 का लाभ हुआ। इसी प्रकार 27 अप्रैल को बदरीनाथ धाम के कपाट खुलने के पश्चात वहां अभी तक 36,084 हजार विशिष्ट व अतिविशिष्ट महानुभाव दर्शनों के लिए पहुंचे। इनसे बीकेटीसी को रूपये 1,08,25,200 प्राप्त हुए। उल्लेखनीय है कि यात्राकाल में दोनों धामों में प्रोटोकॉल के तहत वीआईपी व वीवीआईपी श्रद्धालुओं की भीड़ लगी रहती है। बीकेटीसी वीआईपी श्रद्धालुओं को प्राथमिकता के आधार पर दर्शन कराती थी और प्रसाद भी देती थी। इन श्रद्धालुओं से किसी प्रकार का शुल्क नहीं लिया जाता था। वीआईपी व वीवीआईपी श्रद्धालुओं के नाम पर अनेक अव्यवस्थाएं भी पैदा होती थीं। इस वर्ष यात्राकाल से पूर्व बीकेटीसी अध्यक्ष अजेंद्र ने देश के चार बड़े मंदिरों श्री वैष्णोदेवी, श्री तिरूपति बाला जी, श्री सोमनाथ व श्री महाकाल मंदिर में विभिन्न व्यवस्थाओं के अध्ययन के लिए अलग-अलग दल भेजे थे। इन दलों ने वहां की व्यवस्थाओं का अध्ययन कर मंदिरों में आने वाले विशिष्ट व अति विशिष्ट महानुभावों से दर्शनों के लिए शुल्क निर्धारित करने का प्रस्ताव रखा था। बीकेटीसी ने अध्ययन दलों के सुझाव पर प्रति व्यक्ति 300 रुपये निर्धारित किया था। बीकेटीसी द्वारा नयी व्यवस्था कायम किए जाने के बाद वीआईपी व वीवीआईपी के नाम पर अनावश्यक रूप से दर्शनों के लिए घुसने वालों पर भी रोक लगी है। बीकेटीसी ने इस नई व्यवस्था की शुरुआत इस वर्ष केदारनाथ धाम से शुरू की थी। केदारनाथ धाम के कपाट खुलने पर बीकेटीसी ने पहली पर्ची मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी की काटी थी। मुख्यमंत्री ने 300 रूपये का शुल्क चुका कर दर्शन किये थे।

Web Editor Web Editor